अयोध्या में बनने वाली मस्जिद का डिज़ाइन लॉन्च: इसमें कोई गुंबद नहीं होगा

अयोध्या में बनने वाली मस्जिद का डिज़ाइन लॉन्च: इसमें कोई गुंबद नहीं होगा

अयोध्या में धनीपुर में बनने वाली मस्जिद का डिजाइन शनिवार को लॉन्च कर दिया गया है। इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ने एक वर्चुअल मीटिंग में डिज़ाइन लॉन्च किया है। खास बात यह है कि मस्जिद में गुंबद नहीं होगा। इसका नाम किसी राजा के नाम पर नहीं होगा। परिसर में एक संग्रहालय, पुस्तकालय और सामुदायिक रसोईघर होगा। 200 से 300 बेड वाला एक अस्पताल भी होगा।

नींव के करीबी सूत्रों के मुताबिक, अगर समय रहते नक्शा पास कर दिया गया तो 26 जनवरी से मस्जिद का निर्माण शुरू हो जाएगा। यदि प्रक्रिया में समय लगता है, तो निर्माण 15 अगस्त से शुरू होगा। पूरा प्रोजेक्ट दो साल में तैयार होने की उम्मीद है। इसके लिए कोई बजट सीमा निर्धारित नहीं की गई है।

अस्पताल 100 करोड़ रुपये की लागत से बनाया जाएगा

नींव की एक बैठक ने तय किया है कि मिट्टी परीक्षण पहले साइट पर किया जाएगा। फिर मस्जिद का नक्शा पास किया जाएगा। इस प्रक्रिया के बाद निर्माण शुरू हो जाएगा। मस्जिद, अस्पताल, संग्रहालय का पहला शिलान्यास एक साथ किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक, यहां बनने वाले अस्पताल पर 100 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

इसके साथ ही 2 हजार लोग नमाज पढ़ सकेंगे

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में वास्तुकला विभाग के डीन एमएस अख्तर और जिन्होंने मस्जिद को डिजाइन किया, ने कहा कि मस्जिद 3,500 वर्ग मीटर में बनाई जाएगी। 2 हजार लोग एक साथ यहां प्रार्थना कर सकेंगे। मस्जिद को दो मंजिलों में तैयार किया जाएगा। महिलाओं के लिए एक अलग स्थान होगा। इमारत पर्यावरण के अनुकूल होगी और सौर ऊर्जा का उपयोग करेगी।

अस्पताल को 24 हजार 150 वर्ग मीटर में तैयार किया जाएगा। मस्जिद 6 महीने में तैयार हो सकती है और अस्पताल को तैयार होने में लगभग एक साल लग सकता है।

किसी भी बादशाह के नाम पर मस्जिद नहीं होगी

फाउंडेशन के एक प्रवक्ता अतहर हुसैन ने कहा कि नक्शा पास होने के बाद मस्जिद का निर्माण शुरू होगा। मंजूरी मिलने पर यह ऑपरेशन 26 जनवरी से शुरू होगा। इसके लिए कोई बड़ा आयोजन नहीं किया जाएगा। अगली तारीख 15 अगस्त होगी। यानी, 26 जनवरी या 15 अगस्त से मस्जिद का निर्माण शुरू हो जाएगा। मस्जिद का नाम किसी भी सम्राट या राजा के नाम पर नहीं रखा जाएगा।

चार मंजिल का चैरिटी अस्पताल होगा

ट्रस्ट के अनुसार, अकेले अस्पताल परियोजना के लिए 100 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। अस्पताल में 4 मंजिलें होंगी और कम से कम 200 बेड होंगे। यह एक चैरिटी मॉडल पर काम करेगा। इसके लिए अभी तक क्राउडफंडिंग शुरू नहीं की गई है। हालांकि, मस्जिद के बैंक खाते का विवरण जारी किया गया है। लोग इसमें मदद कर सकते हैं।

यूपी के सीएम योगी को नहीं बुलाया जाएगा

वर्चुअल मीटिंग में तय किया गया है कि निर्माण की शुरुआत में सीएम योगी आदित्यनाथ को आमंत्रित नहीं किया जाएगा। नई सुविधा के तैयार होने पर सीएम और आम नागरिकों को आमंत्रित किया जाएगा।